Essay On A Live Cricket Match In Hindi


भूमिका- यूनानी दार्शनिक अरस्तु ने सही कहा था- ‘स्वस्थ शारीर में ही स्वस्थ मस्तिषक का निवास होता है |’ शारीरिक और मानसिक विकाश के लिए खेल परम आवश्यक हैं | खेल खेलना और खेल देखना दोनों ही रोचक होते हैं | दर्शकों का हजूम न हो तो खिलाडी में उत्साह और जितने की ललक पैदा नही होती है | मुझे कक्रिकेट  से विशेष प्रेम है, इसलिए शहर में जब भी क्रिकेट मैच होता है, मैं अवश्य वहाँ पहुँचता हुँ |

विस्तार-  भारत और पाकिस्तान के बिच होने वाले मैच देखना मुझे बहुत पसंद है | इस मैच को देखने में खेल का आनंद तो होता ही है , साथ ही देश-प्रेम  का एक अजीब-सा ज़ज्बा भी अंदर-ही अंदर हिलोरे लेने लगता है | भले ही हम दोनों देश आतंकवाद की समस्या से जूझ रहे हों, पर खेल के मैदान में हम केवल खिलाड़ी होते हैं; जिनके सामने एक ही लक्ष्य होता है- अपने देश को विजय-श्री दिलवाना | स्टेडियम खचाखच भरा था, दर्शको के हाथो में भारतीय तिरंगा लहरा-राहे थे | कुछ दुरी पर पाकिस्तान कि टीमो के समर्थान भी चाँद-तारों  वाले झंडे लहरा रहे थे | ठीक दस बजते ही दोनों देशों के टीम मैदान पर उतरे | दोनों देशों के कप्तान के सामने टॉस हुआ और टॉस पाकिस्तान ने जीता | पाकिस्तान के इमरान नज़ीर और कामरान अकमल बल्ला लेकर मैदान में उतरें | भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपनी टीम के खिलाड़ियों  को  रणनीति के तहत अपने-अपने स्थान पर भेजा और गेंद इशांत शर्मा को थमा दिया | खेल शुरू हुआ | पहले पाँच ओवरों में ही उन्होंने 27 रन बना लिया | दस ओवर होते-होते उनके 54 रन बन चुके थे | हमारे गेंदबाज जी-जान से उन्हें आउट करने की कोसिस में लगे थे |


भारतीय गेंद बाजों की सुरुआत खास अच्छी नहीं थी | ज़ाहिर खान में दुसरे ओवर में दो  नोबॅल और दो वाइट् गेंदों के साथ बारह रन विरोधी टीम के खाते में जोर दिए थे | आशिष नेहरा को गेंद करने के लिए मैदान में उतरा गया | पहले गेंद में ही नज़ीर ने चौका जड़ दिया | 15वें ओवर में हरबजन सिंह को आजमाया गया | उन्होंने रनों की तेज़ रफ़्तार को थोड़ा थामा |सबसे ज्यादा खुशी का पल वह था, जब हरभजन सिंह के गेंद पर सहवाग ने थ्रो करके पाकिस्तान के सबसे खतरनाक बल्लेबाज़ अफरीदी को रन आउट किया | धराधर रन बनाते अकरम  को श्रीशांत ने जब आउट किया, तब जाकर अपने कप्तान धोनी ने चैन ली | पारी ख़त्म होते-होते पाकिस्तान ने 293 रन बना लिया, इनमे नज़ीर के 101 रन थे | भारत के सामने एक बड़ी चुनौती थी |

भारतीय टीम अपनी पारी खेलने के लिय मैदान में उतरी | उनके चहरे पर चमक थी | जवाब देना था | हमारी धरकने तेज़ होने लगी | हमारे दो दिग्गज मैदान में थे – ‘मास्टर ब्लास्टर’ सचिन तेंदुलकर और वीरेंदर सहवाग | सुरुआत अक्रमक थी | दोनों ने पहले पाँच ओवर में ही पचास रन बना डाले | दर्शक खुशी से झूम उठे |  स्टेडियम में भारतीय  ध्वज  लहराने लगे | तालियों की गड़गड़ाहट आकाश गुँझ उठा | दर्शक ख़ुशी से नाचने लगे | सहवाग ने रन तेज़ी से बनाए, लेकिन वे जल्दी ह आउट हो गये और केवल 41 रन ही बना पाए |

इस मैच का सबसे स्मरणीय क्षण था, जब सचिन ने अंतर्राष्ट्रीय मैचों में अपना 41वाँ शतक बनाया |  उन्होंने अपने चिर-परिचित अंदाज़ में अपना बल्ला ऊपर उताकर आकाश की ओर देखा, मनो भगवाल की कृपया का दन्यवाद कर रहे थे | कुछ उत्साही सचिन-प्रेमी मैदान में उन्हें गले लगाने को दौरे , लेकिन उन्हें बिच में ही रोक लिया गया | अब सारा दरोमदार शेष बचे खिलाड़िओं पर था | उन्होंने इस चुनौतिओ को स्वीकार करते हुए अच्चा प्रदर्शन किया अंततः हमें विजय-श्री दिलवाई | दर्शक झूम उठे | खिलाडियों ने दौड़कर ओने साथी खिलाडिओं को गोद में उठा लिया | चरों ओर जश्न का माहोल बन गया |


उपसंहार- यह रोमांचक जीत आज भी मेरी यादों में बसी है | क्रिकेट मैच तो इसके बाद भी कई बार देखे, लेकिन इस मैच की तरह मज़ा नहीं  था | उस दिन जीत की खुशी में कोई भी हिन्दुस्तानी नही सोया |इस जीत को हम सबने दिवाली की तरह मनाया | इस मैच ने यह भी सिद्ध क्र दिया की खेल को खेल-की भावनाओ से खेला जाए तो जुरूर कामयाबी हाथ लगती है और हार को जीत में बदला जा सकता हैं |    






|Download pdf|


SHARE THIS

ONE DAY CRICKETTHE CRAZE OF THE DAY

 

      Game is a game ; one must play it in the spirit of game.                                 

— Anonymous

 

                Cricket is a game known for its wonderful glories, fluctuating fortunes and tantalizing suspense.  It is popular with men and women of all ages and almost all times.  Whenever there is a cricket match, people crowd the playing fields in thousands or sit glued to their television sets for days.  A cricket match used to be a long drawn out affair.  But things changed with the introduction of one-day matches.

                The one day matches made cricket so popular that cricket players came to be celebrated more than the heroines or the heroes for the world of the theater.  Various advertising companies hired the services of some of these players on fat payments.  Some of the players developed a craze for instant with the bookies who used to stake huge fortunes over the result of the matches.  The controversy arising out of the match-fixing is still fresh in every mind and charges and counter charges are being looked into by the authorities.  Some players in some countries have already been found guilty and punished.  All this is certainly against the very spirit of the game.

                From instant coffee to instant cricket, the journey has not been very long.  In this jet age everything fast is acceptable and anything moving at a slow pace is instantly rejected by the people.  Only 30 years ago in the seventies, the five-day cricket matches inspired a lot of interest.  Though the majority of these matches ended in a draw, yet they did cause a lot of excitement.  Today a 5-day cricket match no longer holds the interest of the people to that extent.  Far from it, it is being termed as out-dated or boring.

                What has come to be known as one-day cricket or instant cricket, has very effectively replaced the traditional five-day matches.  Today in most of the world tournaments, it is only the one-day cricket that rules the roost.  This particular kind of match cannot exceed a day as each team plays only limited overs.  That is why it is also called limited overs cricket.  Each team plays a fixed number of overs and tries to score the maximum runs, without caring much for the fall of wickets.  It is only the runs that not much time to contemplate or to watch.  The entire atmosphere is filled with excitement throughout the match.  The match moves with speed and there is action all through.  Either the wickets fall or the runs keep coming in.  There is movement, spirit, action and fun all over the field.

                This kind of cricket has certainly caught the fancy of the people.  The result of game is out by evening and the suspense is over.

                There is no need to wait for five days for the outcome of the result.  Time flies very fast in such matches.  These days people do not have many days to spare for entertainment.  In the good old days, people used to take things in a leisurely way and kept watching a cricket match for days on end.  The matches used to be quite slow because the intention of every player was to stick to the wicket for as long as possible and score slowly at ease.  There was hardly any action in majority of the matches.

                It is because of these factors only that there was a swift change to instant cricket.  In one-day matches people can relish the game without having to wait for the result of five or six long days.  Fours and sixes have become a common feature in instant cricket.  In a matter of a few hours only, more than 600 runs are often hit up by both the teams.  Runs flow off the bat like autumn leaves while wickets fall like nine pins.  Spectators demand a six every now and then.  Instant cricket has attracted people of all ages.  Once the series starts, there is hardly any work done in the offices.  Students miss classes and office-goers miss their work.  Everybody sits glued to his or her television set to watch the game.  Instant cricket has caught on like wild fire.  It thrills every soul, young or old.  Time is not far off when 5-day matches will become a thing of the past only.

toms wedges
alviero martini outlet
portafoglio alviero martini
boxing day gucci
basket jordan homme
boxing day gucci
toms wedge
michael kors handbags uk
mbt sale
toms after christmas sale

July 21, 2015evirtualguru_ajaygour10th Class, Class 12, English (Sr. Secondary), English 12, LanguagesNo CommentEnglish 10, English 12, English Essay Class 10 & 12, English Essay Graduation

About evirtualguru_ajaygour

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

0 thoughts on “Essay On A Live Cricket Match In Hindi”

    -->

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *